टेस्ला के अधिकारी बीवाईडी संयंत्र की भारत की नामंजूरी से चीन के नाराज होने पर वाणिज्य मंत्री से मिलेंगे

0
45

कथित तौर पर एलन मस्क-टेस्ला के प्रतिनिधियों के इस महीने की शुरुआत में केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल से मिलने की उम्मीद है, ताकि 20 लाख रुपये की इलेक्ट्रिक कार बनाने की सुविधा तैयार की जा सके, क्योंकि चीन नई दिल्ली में 1 अरब डॉलर की लागत से संयंत्र बनाने के लिए बीवाईडी समूह की बोली को खारिज किए जाने से नाराज है। रॉयटर्स की एक रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया गया कि गोयल के साथ उच्चतम स्तर की बैठक होगी, क्योंकि मस्क ने पिछले महीने अमेका में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी और कहा था कि वह जल्द से जल्द टेस्ला को भारत लाने की योजना बना रहे हैं। टेस्ला ने अभी तक रिपोर्ट पर टिप्पणी नहीं की है। अमेरिकी इलेक्ट्रिक कार निर्माता टेस्ला ने घरेलू बिक्री और निर्यात के लिए इलेक्ट्रिक कार बनाने के लिए भारत में एक कारखाना स्थापित करने का प्रस्ताव दिया है।इस बीच, जैसा कि सरकार मस्क की टेस्ला का स्वागत करने के लिए तैयार है, केंद्र ने कथित तौर पर देश में 1 अरब डॉलर की चार-पहिया विनिर्माण संयंत्र स्थापित करने की चीनी इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) की दिग्गज कंपनी बीवाईडी मोटर्स की योजना को खारिज कर दिया है। चीनी सरकारी ग्लोबल टाइम्स के अनुसार, अगर भारत टेस्ला और बीवाईडी के साथ अलग व्यवहार करता है, तो “क्या यह चीन के खिलाफ पूरी तरह से भेदभाव नहीं होगा?” अखबार ने कहा कि उम्मीद है कि “भारत चीनी निवेश के खिलाफ राजनीतिक रूप से पक्षपाती नहीं होगा, आर्थिक सुरक्षा की आड़ में चीनी निर्माताओं के लिए अदृश्य प्रवेश बाधाएं स्थापित करने से परहेज करेगा।” हाल के वर्षों में भारत ने चीनी कंपनियों पर अपना हमला तेज कर दिया है, जिसे विश्‍लेषकों ने “कुंद बदमाशी और तथाकथित सुरक्षा खतरों की आड़ में चीनी कंपनियों की उपलब्धियों की चोरी” कहा है। प्रकाशन में कहा गया है, ”अंतर्राष्ट्रीय निवेश के लिए एक अच्छा कारोबारी माहौल प्रदान करने और वैश्विक कंपनियों को लगातार आकर्षित करने का भारत का प्रयास एक खोखला वादा होगा।” –