Share Market Update: खुलते ही धड़ाम से गिरा बाजार: सेंसेक्स 1441 अंक टूटा- जानिए बाजार में गिरावट की बड़ी वजह

0
116

नई दिल्ली : देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिन शेयर बाजार बहुत भारी गिरावट के साथ खुला। सुबह 9 बजकर 15 मिनट पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सूचकांक सेंसेक्स 1441.82 अंकों की गिरावट के बाद 37,028.79 पर खुला, जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 403.15 अंक कमजोर होकर 10,865.85 पर खुला। खबर लिखे जाने तक सेंसेक्स 1162.50 अंक (3.02%) गिरकर 37,308.11 और निफ्टी 351.10 (3.12%) अंक टूटकर 10,917.90 अंकों पर कारोबार कर रहे थे। निफ्टी के 50 शेयरों में से 1 शेयर हरे निशान और 49 लाल निशान में कारोबार कर रहे थे। शुरुआत कारोबार में यस बैंक का शेयर 25 फीसद तक लुढ़क गया।

बाजार में गिरावट की वजहों में शेयर बाजार को लेकर निवेशकों की कमजोर धारणा, यस बैंक से पैसे निकालने को लेकर आरबीआई की अधिसूचना प्रमुख रही। इसके अलावा देश में कोरना वायरस के बढ़ते खतरे भी गिरावट की वजह रहे।

बाजार के खुलने के साथ ही बड़ी गिरावट से 5 लाख निवेशकों का धन सेकेंडों में स्वाहा हो गया। शुक्रवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया भी गिरकर 74 के स्तर पर पहुंच गया।

वॉल स्ट्रीट पर रात भर की बिक्री के बाद एशियाई बाजार आज तेजी से नीचे आए। कारोबार के दौरान जापान का निक्केई 3% से अधिक नीचे था जबकि चीन का बाजार 1% से अधिक गिर गया।

आरबीआई ने यस बैंक के लिए एक प्रशासक की नियुक्ति की गई है। यस बैंक पर 30 दिन की अस्थायी रोक लगाते हुए इस दौरान खाताधारकों के लिए निकासी की सीमा 50 हजार रुपये तय कर दी है। एसबीआई बोर्ड ने सबसे बड़े बैंक को पूंजी-संपन्न यस बैंक में निवेश करने की ‘सैद्धांतिक रूप से’ मंजूरी दे दी है।

शेयर बाजार के सेंसेक्स ने गुरुवार को अपना ज्यादातर शुरुआती लाभ गंवा दिया और यह 61 अंक के नुकसान के साथ बंद हुआ। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान 478 अंक तक चढ़ने के बाद अंत में 61.13 अंक या 0.16 फीसद के लाभ के साथ 38,470.61 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 18 अंक या 0.16 फीसद की मामूली बढ़त के साथ 11,269 अंक पर बंद हुआ।

निवेशकों ने उम्मीद जताई है कि दुनिया भर की सरकारों और केंद्रीय बैंक के प्रयासों से कोरोना वायरस के प्रभाव को कम किया जा सकेगा। अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष ने कहा है कि आपात वित्त सुविधा के तहत कम आय और उभरते देशों को 50 अरब डॉलर उपलब्ध कराएगा। ये देश संभावित रूप से कोरोनावायरस की मदद से समर्थन मांग सकते हैं।