SEBI ने लगाई सरसों के बीज का नया अनुबंध शुरू करने पर रोक

0
59

नई दिल्ली। बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (SEBI) ने सरसों के बीज के अनुबंधों में कारोबार से संबंधित निर्देश जारी किया है। SEBI ने शुक्रवार को कमोडिटी एक्सचेंज एनसीडीईएक्स को सरसों के तेल की बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के प्रयासों के बीच, अगले आदेश तक सरसों के नए अनुबंध शुरू करने से रोक लगा दिया है। नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड (एनसीडीईएक्स) के लिए नए निर्देश तत्काल प्रभाव से लागू होंगे।

सेबी ने एक विज्ञप्ति में कहा कि, “चल रहे अनुबंधों के संबंध में, कोई नई पोजीशन लेने की अनुमति नहीं दी जाएगी, केवल पोजीशन के चुकौती की अनुमति होगी। अगले आदेश तक कोई नया सरसों बीज अनुबंध शुरू नहीं किया जाएगा।”

खाद्य तेल उद्योग निकाय सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन (एसईए) के कार्यकारी निदेशक बी वी मेहता ने कहा कि, “सेबी ने सरसों के तेल की कीमतों में और वृद्धि को रोकने के लिए यह निर्णय लिया है। अधिकांश सरसों के स्टॉक काफी कम हो गए हैं, जिस वजह से कीमतों पर दबाव देखा जा रहा है। सरसों के बीज की कम आपूर्ति ने सरसों तेल के थोक और खुदरा कीमतों पर दबाव डाला है।”

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, “सरसों के तेल (पैक) का औसत खुदरा मूल्य इस साल 7 अक्टूबर को बढ़कर 183.50 रुपये प्रति किलोग्राम हो गया, जो 8 अक्टूबर, 2020 को 128.50 रुपये प्रति किलोग्राम था। उद्योग के आंकड़ों के अनुसार, 2020-21 फसल वर्ष (जुलाई-जून) में 85 लाख टन के कुल अनुमानित सरसों के उत्पादन के मुकाबले, मिलों ने लगभग 70 लाख टन की पेराई की है और किसानों के पास 14 से 15 लाख टन का स्टॉक बचा है।”

सरसों एक रबी (सर्दियों) की फसल है, और ताजा आगमन केवल फरवरी में होने की उम्मीद है। वर्तमान में अपेक्षाकृत अधिक तापमान के कारण उत्तर भारत में सरसों की बुवाई अभी शुरू नहीं हुई है।

सेबी ने अगली सूचना तक आरएम बीज में नए वायदा या विकल्प अनुबंध शुरू करने पर भी रोक लगा दी है। एक विश्लेषक के मुताबिक, “प्रतिकूल कार्रवाई एक्सचेंज में तरलता को और कम कर देगी। एक्सचेंज पर वायदा कारोबार तेजी से हाजिर बाजारों के लिए बेंचमार्क बनता जा रहा है, सरकार का लक्ष्य सट्टा कारोबारों द्वारा कृषि जिंसों की कीमतों में बढ़ोतरी को कम करना है।”

अगस्त में, सेबी ने कीमतों में तेज वृद्धि को रोकने के लिए एहतियात के तौर पर चना में एक नया वायदा अनुबंध शुरू करने पर प्रतिबंध लगा दिया था।