SBI रूसी संस्थाओं से नहीं करेगा कोई लेनदेन

0
130

नई दिल्ली : स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने रूस की उन संस्थाओं के लेन-देन की प्रक्रिया बंद कर दी है, जिन्हें यूक्रेन पर मास्को के हमले को लेकर पश्चिमी देशों ने मंजूरी दी थी। सूत्रों ने कहा कि इसे लागू करने के लिए एसबीआई ने एक सर्कुलर जारी किया है, क्योंकि उसे डर है कि संस्थाओं या क्षेत्रों के साथ किसी भी लेन-देन को मंजूरी मिल जाएगी। उन्होंने कहा कि अमेरिका, यूरोपीय संघ या संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंध सूची में शामिल संस्थाओं, बैंकों, बंदरगाहों या जहाजों से जुड़े किसी भी लेन-देन को लेनदेन की मुद्रा के बावजूद प्रोसेस नहीं किया जाएगा। सूत्रों ने कहा कि ऐसी संस्थाओं को भुगतान बैंकिंग चैनल के बजाय अन्य तंत्र द्वारा प्रोसेस किया जाना है।

एसबीआई मॉस्को में कमर्शियल इंडो बैंक एलएलसी नामक एक जॉइंट वेंचर संचालित करता है, जहां केनरा बैंक 40 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ एक अन्य भागीदार है। बैंक ने इस मामले पर ई-मेल का जवाब नहीं दिया है। रूस भारत को रक्षा उत्पादों और उपकरणों के सबसे बड़े आपूर्तिकर्ताओं में से एक है, जो ज्यादातर सरकार-से-सरकार अनुबंध के तहत है।

भारत और रूस के बीच द्विपक्षीय व्यापार इस वित्त वर्ष में अब तक 9.4 अरब अमेरिकी डॉलर रहा, जो 2020-21 में 8.1 अरब अमेरिकी डॉलर था। रूस से भारत के मुख्य आयात में ईंधन, खनिज तेल, मोती, कीमती या अर्ध-कीमती पत्थर, परमाणु रिएक्टर, बॉयलर, मशीनरी और यांत्रिक उपकरण शामिल हैं। भारत से रूस को निर्यात की जाने वाली प्रमुख वस्तुओं में फार्मास्युटिकल उत्पाद, विद्युत मशीनरी और उपकरण, जैविक रसायन और वाहन शामिल हैं। पहले भी भारत ने ईरान से आयात के लिए भुगतान करने के लिए एक तंत्र तैयार किया था, जब फारस की खाड़ी राष्ट्र पर प्रतिबंध लगाए गए थे।

यूक्रेन की राजधानी कीव और अन्य बड़े शहरों में लड़ाई तेज होने के साथ रूस-यूक्रेन में आठवें दिन भी युद्ध जारी है। पिछले हफ्ते, सात (जी-7) प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के ग्रुप ने रूसी केंद्रीय बैंक के खिलाफ दंडात्मक प्रतिबंध लगाए। उन्होंने स्विफ्ट इंटर-बैंकिंग सिस्टम से रूसी बैंकों को हटाने का भी फैसला किया, जिसका उद्देश्य रूस को वैश्विक व्यापार से अलग करना है। भारत ने अब तक यूक्रेन पर रूस के हमले पर तटस्थ रुख बनाए रखा है और दोनों देशों से इस मुद्दे को कूटनीतिक रूप से हल करने के लिए कहा है।