हिंदुस्तान जिंक बनी विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी चांदी उत्पादक कंपनी

0
44

24 अप्रैल, 2023। सिल्वर इंस्टीट्यूट द्वारा वर्ल्ड सिल्वर सर्वे 2023 के अनुसार, हिंदुस्तान जिंक, भारत का अग्रणी जिंक-लेड-सिल्वर उत्पादक, दुनिया में 5वें सबसे बड़े चांदी उत्पादक बन गया है। इसके बाद भारत का स्थान शीर्ष 20 चांदी उत्पादक देशों में है। इससे पहले, कंपनी 6ठे सबसे बड़े चांदी उत्पादक थी, जो वर्ष 2022 में 694 टन चांदी के उत्पादन के साथ 5वें स्थान पर आ गयी है।
हिंदुस्तान जिंक भारत की एकीकृत चांदी का 100 प्रतिशत उत्पादन करता है। कंपनी ने 2002 में 41 टन की अल्प क्षमता से 800 टन की उत्पादन क्षमता के साथ विनिवेश के बाद से चांदी का उत्पादन कई गुना बढ़ा दिया है।
इससे पहले, उत्तराखंड में पंतनगर स्थित हिंदुस्तान जिंक की सिल्वर रिफाइनरी को भी लंदन बुलियन मार्केट एसोसिएशन, एलबीएमए द्वारा मान्यता दी गई है और इसे लंदन गुड डिलीवरी सूची में जोड़ा गया है। इसकी रिफाइनरी में उत्पादित चांदी 99.99 प्रतिशत शुद्ध एवं एलबीएमए प्रमाणित है।
द सिल्वर इंस्टीट्यूट द्वारा वर्ल्ड सिल्वर सर्वे 2023 के अनुसार वैश्विक स्तर पर चांदी की कुल आपूर्ति का परिदृश्य 2021 के पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 1,004 मिलियन औंस पर स्थिर रहा है।
भारत में चांदी की मांग में 24 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई, जो मुख्य रूप से आभूषण निर्माण, चांदी के बर्तनों की मांग और महामारी के बाद भौतिक निवेश की बढ़ती मांग से प्रेरित है। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अनंतिम आंकड़ों के अनुसार, 2022 के पहले सात महीनों में भारतीय चांदी का आयात एक साल पहले इसी अवधि के दौरान केवल 110 टन से बढ़कर 5,100 टन हो गया।
विश्व स्तर पर, चांदी का सबसे अधिक उपयोग औद्योगिक निर्माण में होता है, इसके बाद वर्ल्ड सिल्वर इंस्टीट्यूट के अनुसार आभूषण, सिक्के और बार और चांदी के बर्तन आते हैं। 2023 में, वर्ल्ड सिल्वर इंस्टीट्यूट को उम्मीद है कि फोटोवोल्टिक (पीवी) अनुप्रयोगों में निरंतर लाभ से औद्योगिक निर्माण एक और सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच जाएगा।
इसके साथ हिंदुस्तान जिंक की सिंदेसर खुर्द खदान को दुनिया की शीर्ष 30 चांदी उत्पादन खानों में भी स्थान दिया गया है।