40 साल में जापानी बुखार ने ली थीं 50 हजार मासूमों की जान, हमने महज 5 में किया कंट्रोल: योगी आदित्‍यनाथ

0
139

लखनऊ: सीएम योगी आदित्‍यनाथ (yogi adityanath) ने प्रदेश में संक्रामक रोगों से बचाव के लिए 1 जुलाई से संचारी रोग अभियान (up sanchari rog abhiyan) चलाने का निर्देश दिया है। इसके तहत जनता के बीच जागरूकता बढ़ाने पर जोर दिया गया है ताकि जन सहभागिता सुनिश्चित की जा सके। सीएम योगी ने इस क्षेत्र में पिछले वर्षों की उपलब्धि का जिक्र करते हुए कहा, डब्ल्यूएचओ, यूनिसेफ, पाथ जैसी संस्थाओं का सहयोग लिया जाना चाहिए। हमारे सामने अपना इंसेफेलाइटिस नियंत्रण और कोविड प्रबंधन के दो सफल मॉडल हैं, जो संचारी रोग अभियान में हमारे लिए उपयोगी होंगे।

टॉप सेलिंग इलेक्ट्रॉनिक्स पर 50% तक छूट, कई बंपर ऑफर्स
योगी ने जापानी बुखार (इंसेफेलाइटिस) का जिक्र करते हुए कहा कि पूर्वी उत्तर प्रदेश के जिलों में इंसेफेलाइटिस से हजारों बच्चों की मौत होती थी। 50 हजार बच्चों की मौत हुई। 2017 में हमने अंतर्विभागीय समिति बनाई, सभी विभागों ने मिलकर काम किया। अस्पताल बनवाये, पीकू बनवाये, चिकित्सक तैनात किये। साथ साथ पीने के साफ पानी और शौचालय की व्यवस्था भी कराई। नतीजा आज इंसेफेलाइटिस से होने वाली मौतों में 95% की कमी आ गई है। पिछले 4 दशक तक कहर बनी रही बीमारी पर हमने महज 5 वर्ष में नियंत्रण पा लिया। नियंत्रण के बाद अब हमारा अगला लक्ष्य उन्मूलन है।

‘मलेरिया, कालाजार खत्‍म होने की कगार पर’
दूसरी संक्रा‍मक बीमारियों का जिक्र करते हुए योगी ने बताया, ‘हाल के परिणाम बताते हैं कि प्रदेश में मलेरिया और कालाजार रोग खत्‍म होने की कगार पर हैं। प्रति 1,000 की जनसंख्या पर एक से भी कम लोगों में मलेरिया की समस्या देखी गई, जबकि कालाजार रोग 22 चिन्हित ब्लॉक में हर 10,000 की आबादी में एक से कम लोगों में ही देखा गया है। यह बड़ी उपलब्धि है। टीम यूपी को बधाई। बहुत जल्द हमारा प्रदेश कालाजार मुक्त हो जाएगा और मलेरिया पर प्रभावी नियंत्रण भी हो जाएगा।

‘स्‍कूलों में स्‍वच्‍छता के लिए प्रेरित किया जाए’
योगी ने बताया कि संचारी रोग अभियान अभियान के दौरान मंत्रीगण जिलों में उपस्थित होंगे। आमजन के साथ विभिन्न कार्यक्रमों में प्रतिभाग करेंगे। नोडल अधिकारियों की सहभागिता भी होगी। सीएम ने कहा कि स्वच्छता की आदत अनेक बीमारियों से बचाव का सहज माध्यम है। स्कूलों में प्रार्थना सभा के दौरान बच्चों को स्वच्छता के लिए प्रेरित किया जाए। इस बाबत स्कूलों में वाद-विवाद, निबंध, पर्यावरणीय स्वच्छता, प्रश्नोत्तरी आदि विषयक प्रतियोगिता कराई जानी चाहिए।

‘नालों की सफाई, नियमित फॉगिंग’
मुख्‍यमंत्री ने निर्देश दिया कि बरसात को देखते हुए नालों की सफाई करा ली जाए। सिल्ट जमा न हो, ताकि बारिश में जलभराव न हो। मलिन बस्तियों में साफ-सफाई की अत्यधिक आवश्यकता है। यहां नियमित फॉगिंग भी कराई जाए। सॉलिड वेस्ट प्रबंधन के लिए ठोस प्रयास करें।

संचारी रोगों के फैलने में पानी की शुद्धता के महत्‍व पर योगी ने कहा, ‘शुद्ध पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित हो। लोगों के सामने क्लोरीनेशन डेमो दिया जाए। पानी उबाल कर छान कर पीने की जानकारी दें। क्लोरीन की गोलियां वितरित की जाएं।’

जागरूकता के लिए स्‍कूल चलो अभियान
बच्‍चों में जागरूकता लाने के लिए योगी ने निर्देश दिए कि स्कूल चलो अभियान को प्रभावी बनाएं। एक भी घर न छूटे, हर घर पहुंचें। बच्चों का दाखिला कराएं। यह सुनिश्चित कराएं की यूनिफॉर्म की धनराशि से वह यूनिफॉर्म खरीद सकें। हर बच्चा यूनिफॉर्म में ही विद्यालय आए।