Garvi Gujarat Bhawan: गरवी गुजरात भवन हस्तशिल्प के प्रोत्‍साहन के लिए काफी अहम: पीएम मोदी

0
129

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को देश की राजधानी दिल्ली में मौजूद विभिन्न राज्यों के भवनों को उनकी नई भूमिका से रूबरू कराया। प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रदेश भवन महज गेस्ट हाउस नहीं बल्कि अपने राज्य के लिए ब्रांड अंबेसडर बनें। अपने राज्य में पर्यटन और निवेश को बढ़ावा देने वाले केंद्र के रूप में काम करें।

गरवी गुजरात के निर्माण पर 131 करोड़ रुपये की लागत
प्रधानमंत्री मोदी ने यहां गुजरात सरकार के दूसरे प्रदेश भवन ‘गरवी गुजरात’ का उद्घाटन करते हुए ये बातें कही। उन्होंने एक बार फिर लोगों से सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करने की अपील की। 25 बी, अकबर रोड पर सात हजार वर्ग मीटर क्षेत्र में फैले ‘गरवी गुजरात’ के निर्माण पर लगभग 131 करोड़ रुपये की लागत आई है। गुजरात सरकार का यह दूसरा भवन कांग्रेस मुख्यालय 24 अकबर रोड के सामने वाली सड़क पर स्थित है।

तीन महीने पहले बनकर तैयार
प्रधानमंत्री ने नए गुजरात भवन के समय से तीन महीने पहले बनकर तैयार होने पर भी खुशी जताई। उन्होंने कहा कि तय समय से पहले काम पूरा करने की कार्य पद्धति सरकार में हर स्तर तक ले जाई जानी चाहिए। पीएम मोदी ने कहा कि गर्वी गुजरात भवन गुजरात के करोड़ों लोगों के भावनाओं, परंपराओं और संस्कृति के अनुकूल सभी की सेवा के लिए तैयार है। इस बिल्डिंग के निर्माण से जुड़े साथियों को बधाई, उन्होंने तय समय के पहले इस बिल्डिंग का शानदार निर्माण किया।

यह भवन गुजरात के हस्तशिल्प को प्रमोट करने के लिए काफी अहम साबित हो सकता है। नए सदन में गुजरात में निवेश आकर्षित करने के लिए अहम सेंटर बने, इसके लिए नई व्यवस्थाएं की गई हैं। उन्‍होंने कहा कि बढ़ि‍या तरीके से ब्रांडि़ंग करें तो सबको गुजराती खाने का पता चलेगा। चाहता हूं कि लोग गुजराती खाना ढूढंते हुए आएं।

2024 तक देश भर में घर-घर पाइप के जरिए पहुचाएंगे पेयजल
प्रधानमंत्री ने गुजरात में चलाए जा रहे विकास कार्यों की भी सराहना की। उन्होंने कहा कि गुजरात सरकार लोगों तक पाइप के जरिए पेयजल पहुंचाने के अभियान में जुटी है। केंद्र सरकार भी 2024 तक देश भर में घर-घर पाइप के जरिए पेयजल पहुंचाएगी।

पूरी दुनिया में स्टैचू ऑफ यूनिटी की चर्चा
स्टैचू ऑफ यूनिटी को सरदार वल्लभभाई पटेल को श्रद्धांजलि बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आज इस मूर्ति की पूरी दुनिया में चर्चा हो रही है। इससे विश्व पर्यटन के मानचित्र में भारत का मान बढ़ा है, इस साइट को पर्यटन स्थल के रूप में पहचान मिलने लगी है। उन्होंने यह भी बताया कि सिर्फ जन्माष्टमी के दिन ही यहां 34 हजार से ज्यादा सैलानी आए। कार्यक्रम में गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी, उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल, पूर्व मुख्यमंत्री और उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल भी मौजूद रहीं।

मोदी ने जहां बेची चाय, वो स्टाल बनेगा पर्यटन स्थल
वडनगर (गुजरात) : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बचपन में जिस स्टाल पर चाय बेची थी उसे अब पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा। यह टी-स्टाल वडनगर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर है। गुजरात के पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल हाल ही में मोदी के गृहनगर वडनगर गए थे। उन्होंने उन स्थलों की पहचान की थी, जिसे शहर में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विकसित किया जा सकता है।