MP Politics: शिवराज का कमल नाथ पर तंज- अरे नेताजी अपने सलाहकारों को बदलिए

0
99

भोपाल। कोरोना संकट के कारण दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों की वापसी के खर्च पर अब सियासत भी शुरू हो गई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद तंज कसते हुए कहा कि ‘अरे नेताजी थोड़ा’ समाचार पढ़ लिया कीजिए, या अपने सलाहकारों को बदलिए, जो आप को सही जानकारी नहीं देते। दूसरे राज्यों में फंसे श्रमिकों को सरकारी खर्चे पर वापस लाने का काम मप्र पहले ही शुरू कर चुका है। उन्होंने दिवंगत अभिनेता ऋषि कपूर की फिल्म के गाने ‘मैं देर करता नहीं, देर हो जाती है..’ का जिक्र भी कर दिया।

इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री चौहान ने सोमवार को एक साथ आधा दर्जन ट्वीट कर पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के साथ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी को भी निशाने पर ले लिया। दरअसल, कमल नाथ ने एक बयान जारी कर यह घोषणा की थी कि काम की तलाश में अन्य राज्यों में गए मजदूरों को वापस लाने पर होने वाले खर्च की राशि मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी उपलब्ध कराएगी। मजदूर ट्रेन से आएं या बसों से, कांग्रेस कमेटी उनके आने का खर्चा उठाएगी। उन्होंने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा लिए गए इस फैसले का स्वागत किया और कहा कि मध्य प्रदेश के प्रवासी मजदूरों के खर्च को मप्र कांग्रेस कमेटी देगी।

हम दिखावा नहीं करते

इस बयान के बाद मुख्यमंत्री चौहान ने तंज कसते हुए पलटवार किया कि अब लगे हाथ ये भी बता दीजिए कि कांग्रेस शासित किन राज्यों ने यह खर्च उठाया? कुछ समाचार चैनल तो ये भी बता रहे हैं कि महाराष्ट्र समेत कई कांग्रेस शासित राज्यों ने किसी भी तरह का खर्च उठाने से मना कर दिया है? चौहान ने कहा कि मुझे इस बात का दुख है कि प्रजा जब दुखी होती है, तो आपकी राजनीति शुरू हो जाती है और इस बात का सुख है कि हमारी नीति उनके सुख के लिए होती है.. हम उनके जैसा सोचते हैं क्योंकि हम उनमें से एक हैं, उनके बराबर खड़े रहते हैं, महल में रहकर उनके साथ खड़े होने का दिखावा नहीं करते!

सोनिया-राहुल पर सटीक बैठता है यह गाना

स्व. ऋषि कपूर साहब की एक फिल्म में गाना था जो मुझे याद आ रहा है, ‘मैं देर करता नहीं, देर हो जाती है..’ ये सटीक बैठता है कांग्रेस नेता श्रीमती सोनिया गांधी और श्री राहुल गांधी पर। वो विज्ञप्ति जारी कर कह रहे हैं कि कांग्रेस, श्रमिकों की आवाजाही का खर्च वहन करेगी!

श्रमिकों को सम्मान के साथ घर भेजा

एक अन्य ट्वीट में मुख्यमंत्री ने कमल नाथ को संबोधित करते हुए कहा कि आप को यह जानकर हैरानी होगी कि हमने अब तक मध्य प्रदेश के 60,000 से ज्यादा श्रमिकों को अपने-अपने घरों तक उनका पूरा ख्याल रखते हुए पहुंचाया है। सिर्फ इतना ही नहीं, हमारे यहां के मेहमान श्रमिकों को भी हमने उनके राज्यों में सम्मान सहित भिजवाया है।

अपने विधायकों से पूछ लें

चौहान ने कहा कि वो हम ही थे जो कोटा में फंसे विद्यार्थियों को अपने खर्चे पर लेकर आए। अब तक एक श्रमिक ट्रेन भी आ चुकी है! आप चाहें तो प्रदेश में अपने विधायकों से बात कर लीजिए। प्रदेश का हर नागरिक यह सच्चाई जानता है कि कौन उनका ख्याल रखता है और कौन सिर्फ दिखावे की राजनीति करता है।