Mysore University Convocation: 5-6 साल में 7 नए IIM की हुई शुरुआत, बोले पीएम मोदी

0
185

नई दिल्ली। मैसूर विश्वविद्यालय (Mysore University ) के दीक्षांत समारोह में सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल हुए और उन्होंने नई शिक्षा नीति का जिक्र किया और कहा, ‘यह उल्लेखनीय कदम है जिससे देश की शिक्षा व्यवस्था में मौलिक बदलाव आएगा। दरअसल, प्रधानमंत्री मैसूर यूनिवर्सिटी के 100वें दीक्षांत समारोह में वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए विद्यार्थियों को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने देश की शिक्षा जगत में सरकार की उपलब्धियां गिनवाई। उन्होंने कहा कि आजादी के इतने साल बाद भी देश में राष्‍ट्रीय स्‍तर के तकनीकी और मेडिकल संस्‍थानों की भारी कमी थी।

मैसूर यूनिवर्सिटी के पूर्व प्रसिद्ध छात्रों को याद किया और कहा कि यह संस्थान ‘प्राचीन भारत की समृद्ध शिक्षा व्यवस्था और भविष्य के भारत की आशाओं और क्षमताओं का प्रमुख केंद्र’ है। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हायर एजुकेशन में प्रयासों का उद्देश्य केवल नए संस्थानों को खोलना नहीं है बल्कि सरकार के गर्वनेंस, लिंग, सामाजिक हिस्सेदारी को सुनिश्चित करना है।’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘ बीते 5-6 साल में 7 नए IIM स्थापित किए गए हैं। जबकि उससे पहले देश में 13 IIM ही थे। इसी तरह करीब 6 दशक तक देश में सिर्फ 7 एम्स देश में सेवाएं दे रहे थे। साल 2014 के बाद इससे दोगुने यानी 15 एम्स देश में या तो स्थापित हो चुके हैं या फिर शुरु होने की प्रक्रिया में हैं।’ उन्होंने आगे कहा कि बीते 6 साल में औसतन हर साल एक नई IIT का शुभारंभ हुआ। इसमें से एक कर्नाटक के धारवाड़ में है। 2014 तक भारत में 9 IIITs थीं। इसके बाद के 5 सालों में 16 IIITs बनाई गई हैं।