कमलनाथ बोले- ऐसे प्रदेश का सीएम नहीं रहना, जहां माफिया-राज हो

0
111

भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गुरुवार को मध्यप्रदेश को माफिया-मुक्त करने के लिए चारों महानगरों के पुलिस व प्रशासन के आला अफसरों की बैठक की। कमलनाथ ने अफसरों को दो-टूक कहा कि कोई कितना ही बड़ा माफिया हो, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए। मैं ऐसे प्रदेश का सीएम नहीं रहना चाहता, जहां माफिया-राज हो। भाजपा, कांग्रेस या मीडिया जिस भी खोल में माफिया बैठा हो, उसे नेस्तानाबूद कर दो। आप लोग माफिया पर कार्रवाई करो, यदि नहीं करोगे तो मैं देखूंगा कि किस अधिकारी ने नहीं की। फिर मैं कार्रवाई करूंगा। जब मैं कार्रवाई करूंगा, तो आप लोग जानते हो कि अफसरों का क्या होगा।

मुख्यमंत्री इस उच्च स्तरीय बैठक में बेहद सख्त नजर आए। सीएम ने पुलिस व प्रशासन को माफिया के खिलाफ कार्रवाई करने पूरी तरह फ्री-हैंड दे दिया। बैठक में विधि मंत्री पीसी शर्मा, गृह मंत्री बाला बच्चन, सीएस एसआर मोहंती, डीजीपी वीके सिंह सहित चारों प्रमुख शहरों के कलेक्टर-कमिश्नर और एसपी सहित अन्य आला अफसर मौजूद थे। इन सभी को सीएम ने सख्त चेतावनी देकर कहा कि आप लोग यहां से जाने के बाद सीधे एक्शन में दिखें।

उन्होंने अफसरों से ये भी सवाल किया कि जब मेरे पास माफिया के बारे में जानकारी आ रही है, तो आप लोगों के पास क्यों नहीं। हर अफसर की मैं खुद मानीटरिंग करूंगा। उन्होंने इंदौर में जीतू सोनी पर कार्रवाई का जिक्र करते हुए कहा कि जब जीतू सोनी की शिकायत मेरे पास आई, तो उसकी पूरी जानकारी मंगाई। जानकारी पाकर हतप्रभ रह गया कि इतने सालों से वह लोगों को ब्लैकमेल कर रहा है, लोगों की जमीन-जायदाद पर कब्जा कर रहा है। फिर भी उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। तब, मैंने कार्रवाई के निर्देश दिए।

जेब से निकाली लिस्ट, बोले- इसमें हर माफिया का नाम…

बैठक में सीएम ने अपनी जेब से एक सूची निकाली। फिर बोले कि इसमें हर माफिया का नाम है। आप लोग कार्रवाई करो। आप लोग माफिया पर कार्रवाई करते जाओगे और मैं इस सूची में टिक करता जाऊंगा। फिर देखूंगा कि कौन सा माफिया बच गया। उस माफिया के बचने पर संबंधित अधिकारी पर कार्रवाई करूंगा। देखंूगा कि किस माफिया पर कार्रवाई नहीं की, फिर वह अधिकारी नहीं बचेगा। मैं खुद देखूंगा कि कौन अधिकारी क्या कार्रवाई कर रहा है।

मकोका जैसा कानून बनाएंगे

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 15 सालों में आर्गेनाइज्ड क्राईम तेजी से बढ़ा है। मध्यप्रदेश में ऐसे अपराधों को रोकने के लिए कानून बनाएंगे जिसका नाम एमपी एक्ट ऑफ आर्गेनाइज्ड क्राइम होगा। यह महाराष्ट्र के मकोका की तरह होगा। उन्होंने कहा कि भू-माफिया सोसायटी बनाकर लोगों को ठग रह हैं। अभी कॉपरेटिव सिस्टम कमजोर है। इसके लिए अलग सेल बनाओ। जिससे सहकारिता के आड़ में खेल करने वाले माफियाओं पर शिकंजा कसा जा सके।

सीएम ने पूछा- ये राजू कुकरेजा कौन है…

बैठक में सीएम ने पूछा कि ये राजू कुकरेजा कौन है? पहले तो अफसर चुप रह गए, फिर बोले कि ग्वालियर का भू-माफिया है। कई कारोबार है। इस पर सीएम ने कहा कि इतने सालों में इस पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई ? सब चुप रहे, तो सीएम ने कहा कि ये हो या कोई और हो, अब हर माफिया पर कार्रवाई होना चाहिए। जिसने भी पंद्रह सालों में अवैध तरीके से पैसा कमाया, जनता को परेशान किया और माफिया बना, उसे ध्वस्त कर दो। बैठक में जबलपुर आईजी विवेक शर्मा ने कहा कि साहूकारी को लेकर भी कार्रवाई होनी चाहिए। इस पर सीएम ने कहा कि इसके लिए अलग से एक्ट का अध्ययन करना होगा उसके बाद ही इस पर चर्चा की जाएगी। अभी कोई गंभीर मसला हो, तो जरूर कार्रवाई करो।

एसएसपी रूचि बोली- नेताओं से सहमति ले, तो सीएम हुए नाराज-

इंदौर एसएसपी रूचिवर्धन मिश्रा ने बैठक में कहा कि माफिया के खिलाफ कार्रवाई के पहले संभागों में राजनेताओं के साथ बैठक कर लेना चाहिए। इसमें एक सहमति का माहौल बनाना चाहिए। इस पर सीएम ने पूछा- क्या आप कोई गलत काम कर रहे हो? इस पर मिश्रा बोली कि नहीं। फिर सीएम ने पूछा- क्या माफिया पर कार्रवाई नहीं होनी चाहिए। इस पर मिश्रा ने कहा कि होनी चाहिए, तो सीएम ने कहा कि फिर ये क्या बात हुई। मैं जब कह रहा हूं कि कार्रवाई करो, तो और किससे जाकर आपको सहमति लेना है। माफिया, बस माफिया होता है। कोई भी माफिया हो, तो उसे बाहर निकालकर कार्रवाई करो।

सीएम ने ये अहम बातें भी कही-

– माफिया के खिलाफ कार्रवाई के लिए फ्री-हैंड। किसी से डरने की जरूरत नहीं।
– पुलिस में परिवर्तन करना चाहता हूं। ऐसी नई संरचना हो, जिसमें पुलिस नए रूप में दिखे।

– साइबर क्राइम सेंटर नए स्वरूप में बनेगा। अभी यह ठीक प्रकार से काम नहीं कर रहा।- संभागायुक्त नगर निगमों व जमीन घोटाले से संबंधित माफिया पर कार्रवाई करेंगे।
– एसपी-पुलिस अपराध के मामले में माफिया पर कार्रवाई करें। हर दिन रिपोर्ट तैयार करें।

– 12 बजे बाद बार खुले तो नपेंगे अफसर

सीएम की बैठक के बाद सीएस एसआर मोहंती ने ताबड़तोड़ तरीके से रात 12 बजे के बाद बार और शराब अहाते पूरी तरह बंद करने के आदेश दे दिए। सीएस ने निर्देश दिए हैं कि रात 12 बजे के बाद यदि कहीं पर बार-अहाते खुले दिखे, तो संबंधित आबकारी अफसरों पर कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद आबकारी आयुक्त ने भी तत्काल क्रियान्वयन के निर्देश जारी कर दिए।

इधर, कांग्रेस बोली- संगठित अपराध के खिलाफ होगी कार्रवाई

दूसरी ओर प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा, उपाध्यक्ष अभय दुबे व समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने संयुक्त रूप से कहा कि अब कमलनाथ सरकार संगठित अपराध के खिलाफ कार्रवाई करेगी। सीएम के निर्देश है कि कोई किसी भी राजनीतिक पार्टी का बिल्ला लगाए हो, यदि वह माफिया है, तो छोड़ा नहीं जाएगा।