जापान के सम्राट ने नए साल पर मांगी दुआ, कहा- देश में ना आएं प्राकृतिक आपदाएं

0
230

टोक्यो : जापान के नए सम्राट नारुहितो ने अपनी नए साल के पहले भाषण में कहा कि वह आशा करते हैं कि नया साल प्राकृतिक आपदाओं के बिना गुजरे। गुलदाउदी सिंहासन पर चढ़ने के बाद से उन्होंने हजारों शुभचिंतकों को भाषण दिया। उन्होंने आगे कहा कि मुझे खुशी है कि आप के साथ नए साल का जश्न मना रहा हूं। नारुहितो ने लोगों से कहा कि लहराता हुआ जापानी झंडे और बजते हुए बंजई का अर्थ है लंबा जीवन।

उन्होंने कहा दूसरी ओर, मैं कई लोगों के बारे में चिंतित हूं कि पिछले साल आंधी और भारी बारिश के कारण अभी भी कठिन जीवन जी रहे हैं। बता दें कि 59 वर्षीय सम्राट अपनी महारानी मसाको के साथ मौजूद थे। मुझे आशा है कि यह वर्ष बिना किसी प्राकृतिक आपदा के एक अच्छा और शांतिपूर्ण वर्ष होगा। पिछले महीने शाही दंपति ने अक्टूबर में जापान के पूर्वोत्तर क्षेत्र में शक्तिशाली टाइफून हागिबिस से प्रभावित हुओ लोगों का दौरा किया। इस शक्तिशाली तूफान में करीब 80 से अधिक लोग मारे गए और स्थानीय बुनियादी ढांचे को भारी नुकसान पहुंचा।

इसी तरह पारंपरिक नए साल के उत्सव में नारुहितो के पिता अकिहितो भी भाग लिया करते थे। वह लगभग दो शताब्दियों में पहले ऐसे जापानी सम्राट थे जिन्होंने जब 30 अप्रैल को अपने तीन दशक के शासनकाल को समाप्त करते हुए सिंहासन त्याग दिया। Naruhito ने औपचारिक रूप से अक्टूबर में गुलदाउदी सिंहासन के लिए अपनी उदगम की घोषणा दुनिया भर के रॉयल्स और नेताओं के सामने की थी।

केंद्रीय टोक्यो महल, पत्थर की दीवारों और खंदकों से घिरा है। इसे साल में दो बार जनता के लिए खोला जाता है। पहली बार सम्राट के जन्मदिन पर और दूसरा नए साल के दिन। शाही परिवार के शुभचिंतकों को बधाई देने के लिए। हालांकि, बाद में बालकनी में सम्राट चार बार दिखाई देगा।