कोरोना महामारी पर पाक प्रधानमंत्री इमरान ने राजनीतिक दलों से मांगे सुझाव, बाले- हालात काबू में

0
103

इस्‍लामाबाद। पाकिस्‍तान सरकार द्वारा देश में पूर्व लॉकडाउन लागू करने की हिचक के बीच प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश के नेताओं से एक अपील की है। इमरान ने आग्रह किया है कि सभी राजनीतिक दलों के नेता मिलकर कोरोना वायरस से निपटने की रणनीति बनाएं, ताकि इस माहामारी से मुक्‍त का रास्‍ता निकाला जा सकें।

राष्‍ट्रव्‍यापी लॉकबंदी देश की अर्थव्यवस्था के लिए हानिकारक

बुधवार को वीडियो कांफ्रसिंग के जरिए नेशनल असेंबली के स्पीकर असद कैसर की अध्यक्षता में संसदीय नेताओं की एक बैठक को संबोधित करते हुए इमरान ने कहा कि एक राष्‍ट्रव्‍यापी लॉकबंदी देश की अर्थव्यवस्था के लिए हानिकारक होगी। उन्‍होंने संसदीय नेताओं से कहा कि स्‍थानीय स्‍तर पर मंगलवार तक कोराना वायरस के कुल 153 मामलों सामने आए हैं।

इमरान ने कहा कि लॉकडाउन कई तरह का होता है

इमरान ने कहा कि यह देश के लिए बहुत अच्‍छे संकेत हैं। उन्‍होंने कहा कि बाकी संक्रमित मरीज बाहर से आए हैं। उन्‍होंने राजनीतिक दलों के नेताओं को आश्वासन देते हुए कहा कि हालात नियंत्रण में हैं। इमरान ने कहा कि लॉकडाउन कई तरह का होता है। हमने स्‍कूलों और विश्वविद्यालयों को बंद करके और मैच रद करके लॉकडाउन किया है।

इसका असर गरीबों पर पड़ेगा खासकर इससे ग्रामीण प्रभावित होंगे

उन्‍होंने कहा कि पूर्ण लॉकडाउन की स्थिति में परिवहन व्‍यवस्‍था को बंद करना पड़ेगा। इसका असर गरीबों पर पड़ेगा खासकर इससे ग्रामीण प्रभावित होंगे। उन्‍होंने कहा कि मेरा व्‍यक्तिगत मानना है कि हमें पूर्ण लॉकडाउन का कदम नहीं उठाना चाहिए। मुझे विश्वास है कि आपूर्ति पक्ष में हमें भारी समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। मुझे लगता है कि इस लॉकडाउन से हमारे निर्माण उद्योग पर असर पड़ेगा और बड़े पैमाने पर बेरोजगारी होगी।