एनडीए में शामिल होने की अटकलों के बीच जगनमोहन ने पीएम मोदी से की मुलाकात, कई अहम मुद्दों पर हुई बात

0
161

नई दिल्ली। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर राज्य से जुड़े मुद्दों पर बातचीत की। वाईएसआर कांग्रेस के राजग में शामिल होने की चर्चा के बीच रेड्डी आठ महीने बाद मोदी से मिले हैं। बहरहाल, यह पता नहीं चल सका है कि दोनों नेताओं के बीच राजनीतिक मुद्दों पर बातचीत हुई या नहीं।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, 40 मिनट की बैठक के दौरान रेड्डी ने लंबित फंड और कडपा इस्पात संयंत्र समेत विभिन्न परियोजनाओं को मंजूरी का मुद्दा उठाया। उन्होंने मोदी से पोलावरम कृषि परियोजना के लिए लंबित राशि जारी करने और कुर्नूल जिले में हाई कोर्ट स्थापित करने का भी अनुरोध किया।

हालांकि, माना जाता है कि जगन मोहन एनडीए में शामिल होने के लिए आंध्र प्रदेश को विशेष श्रेणी का दर्जा दिलाने की अपनी मांग पर अड़े हुए हैं। वाइएसआर प्रमुख ने इस मांग पर 2019 में अपने पूरे विधानसभा चुनाव अभियान की शुरुआत की थी।

कृष्णा जल बंटवारे पर वीडियो कॉफ्रेंस के जरिए होगी बात

वहीं, आज प्रधानमंत्री से मुलाकात के बाद आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव दोनों कृष्णा जल के बंटवारे को लेकर अपनी लड़ाई को सुलझाने के लिए मंगलवार को दिल्ली में नदी विवाद पर सर्वोच्च परिषद की बैठक में भाग लेने वाले हैं। वीडियो कॉफ्रेंस के जरिये होने वाली इस बैठक में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत भी मौजूद रहेंगे।

यदि वाइएसआर कांग्रेस के एनडीए में शामिल होने की बात करें तो तेलुगु देशम पार्टी के चंद्रबाबू नायडू ने जब 2018 में एनडीए का दामन छोड़ा था, तब वाइएसआर कांग्रेस पार्टी को गठबंधन में लाने का प्रस्ताव दिया गया लेकिन जगनमोहन ने ज्यादा रुचि नहीं दिखाई थी। जगनमोहन को डर था कि एनडीए से जुड़ने पर कहीं मुस्लिम और ईसाई उनके खिलाफ न हो जाएं। दस फीसद अल्पसंख्यक जनसंख्या के वोट जगनमोहन के प्रमुख वोटरों में से हैं।