बिहार और ओडिशा ने उठाई विशेष दर्जे की मांग, ममता बनर्जी ने लगाया केंद्र पर भेदभाव का आरोप

0
129

भुवनेश्वर। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में शुक्रवार को यहां हुई 24वीं पूर्वाचल क्षेत्रीय परिषद की बैठक में विभिन्न मसलों पर चर्चा हुई। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने राज्य को जहां विशेष दर्जा दिए जाने की मांग दोहराई, वहीं बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र पर भेदभाव का आरोप लगाया।इस उच्च स्तरीय बैठक में बिहार, ओडिशा और बंगाल के मुख्यमंत्री जबकि झारखंड के वित्तमंत्री रामेश्वर उरांव शामिल हुए।

नीतीश ने कहा कि पिछले कुछ वर्षो में दोहरे अंक की विकास दर हासिल करने के बावजूद विकास के प्रमुख मापदंडों जैसे गरीबी रेखा, प्रति व्यक्ति आय, औद्योगीकरण तथा भौतिक आधारभूत संरचना में बिहार राष्ट्रीय औसत से नीचे है। ऐसी स्थिति देश के कई अन्य राज्यों की भी है। इसलिए इन राज्यों को विशेष राज्य का दर्जा मिलना जरूरी है, ताकि वे देश की प्रगति में अपना योगदान कर सकें। नीतीश ने कहा कि गंगा नदी की अविरलता को बरकरार रखने के उद्देश्य से राष्ट्रीय स्तर पर एक व्यापक गाद प्रबंधन नीति की आवश्यकता है। यह पर्यावरणीय एवं पारिस्थितिकी तंत्र के अनुकूल हो। उन्होंने पिछड़ा क्षेत्र विकास निधि (बीआरजीएफ) के तहत बकाया राशि जारी करने का मामला उठाया।

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग के साथ ही विशेष आíथक पैकेज देने के लिए भी अनुरोध किया। जीएसटी का मुद्दा उठाबैठक में जीएसटी का मुद्दा भी उठा। ममता बनर्जी ने कहा कि जीएसटी के बावत मिलनी वाली राशि प्रत्येक महीने देने के बजाय छह महीने में दी जा रही है। छह महीने में पैसा मिलने पर हम कर्मचारियों का वेतन किस प्रकार से देंगे। बंगाल को केंद्र से 50 हजार करोड़ रुपये मिलना है। इस राशि को जल्द से मुहैया कराने की व्यवस्था की जाए। ममता ने कहा कि चक्रवात फणि, बुलबुल में बंगाल में व्यापक नुकसान हुआ था, मगर हमें आज तक नुकसान की राशि नहीं मिली है।

ममता बनर्जी ने बाद में पत्रकारों से कहा कि बैठक में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) व राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) पर कोई चर्चा नहीं हुई लेकिन उन्होंने दिल्ली में ¨हसा का मुद्दा उठाते हुए गृहमंत्री से शांति बहाली के लिए तुरंत कदम उठाने की अपील की ताकि स्थिति और न बिगड़े। उन्होंने ¨हसा पीडि़तों को पर्याप्त मुआवजा देने की भी मांग की। ममता ने कहा-‘दिल्ली में जो कुछ हुआ, वह दुर्भाग्यपूर्ण है और उससे मैं बहुत दुखी हूं। दिल्ली सहित देशभर में शांति कायम होनी चाहिए।’

एक टेबल पर खाया खाना

बैठक के बाद नवीन पटनायक के आवास पर गृहमंत्री अमित शाह, ममता बनर्जी, नीतीश कुमार और केंद्रीय मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने एक साथ बैठकर दोपहर का भोजन किया।